भारत के सबसे बड़े जंगल – Biggest forest in India

by | Dec 4, 2021 | Geography | 0 comments

भारत के 10 सबसे बड़े जंगल – Top 10 largest forest in India Hindi

1. सुंदरबन नेशनल पार्क  (Sunderban) Largest forest in India

सुंदरबन को अक्सर बंगाल टाइगर्स के घर के रूप में जाना जाता है इसके अलावा यह दुनिया में सबसे बड़े मैनग्रोव जंगलों की मेजबानी करता है । यह एक बायोस्फीयर रिजर्व है जो देश में बाघों की आबादी को संरक्षित करता है।  सुंदरबन यूनेस्को की वर्ल्ड हेरिटेज साइट है। 

सुंदरबन नेशनल पार्क  (Sunderban) Largest forest in India

यह  भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के दक्षिणी भाग में गंगा नदी के किनारे स्थित है। 

क्षेत्र की सुंदरता आप को शांत महसूस कराती है । यह देश का अंतिम शक्तिशाली जंगल है जिसमें सबसे अधिक संख्या में सुंदरी के पेड़ है। 

यहाँ 30,000 से अधिक चित्तीदार हिरण और 400 रॉयल बंगाल टाइगर है ।  

यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट कोलकाता है जहां से सुंदरबन 166 किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन है जो 48 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

2. जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क – Jim Corbett National Park

देश के सबसे पुराने वन भंडार में से एक जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क की स्थापना 1936 में हेली नेशनल पार्क (Heli National Park) के रूप में हुई थी और इसका नाम एडवर्ड जेम्स कॉर्बेट (Edward James Corbett) के नाम पर रखा गया था जो एक ब्रिटिश अधिकारी प्रकृति वादी और एक लेखक थे।  

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क - Jim Corbett National Park

जिम कॉर्बेट पार्क शुरू में लुप्त प्राय बंगाल टाइगर्स की रक्षा के लिए बनाया गया था । पार्क को चार अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित किया गया है जैसे कि बिजरानी, ढिकाला , झिरना, ढेला  और दुर्गा देवी क्षेत्र। 

जिम कॉर्बेट की यात्रा पूरे वर्ष के दौरान की जा सकती है लेकिन नवंबर से फरवरी यात्रा के लिए सर्वोत्तम समय है । 

जिम कॉर्बेट जाने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट पंतनगर है जो कि नैनीताल से 68 किलोमीटर की किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन रामनगर है जो कि 1 किलोमीटर की दूरी पर है।

3. खासी हिल्स (Khasi Hills)

खासी हिल्स मेघालय के सबट्रॉपिकल फॉरेस्ट का एक हिस्सा है।  इन पहाड़ियों का नाम मेघालय की खासी जनजाति के नाम पर रखा गया है। गहरी घाटियां और चोटियाँ इन खूबसूरत खासी जंगलों को चारों ओर से प्राचीन हरियाली के साथ बेहद आकर्षक बनाती हैं । 

खासी हिल्स (Khasi Hills)

वर्षा की उच्च मात्रा मेघालय के क्षेत्र में स्वच्छ और कायाकल्प परिवेश के पीछे का कारण है।  यह एक प्रकृति प्रेमी का स्वर्ग है इन वनों का इकोरीजन 110 स्तनधारी प्रजातियों का घर है , जिनमें क्लाउडेड लेपर्ड ,  एशियन एलीफेंट, स्लॉथ बियर, टाइगर आदि शामिल है । 

खासी हिल्स  जाने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट गुवाहाटी है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन भी गुवाहाटी है।

4. कान्हा नेशनल पार्क (Kanha National Park)

कान्हा नेशनल पार्क 1955 में स्थापित किया गया था और फेमस जर्नलिस्ट रुडयार्ड किपलिंग की किताब जंगल बुक के पीछे का कारण कान्हा नेशनल पार्क ही था । 

कान्हा नेशनल पार्क (Kanha National Park)

कान्हा नेशनल पार्क की सबसे उल्लेखनीय उपलब्धि विलुप्त होने वाले बारहसिंघा को बचाना था इसीलिए इसे राष्ट्रीय उद्यान का सबसे महत्वपूर्ण स्थान बनाया गया था । 

कान्हा नेशनल पार्क जाने के लिए अक्टूबर से जून का समय सबसे सही है। 

कान्हा नेशनल पार्क जाने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट जबलपुर है जो कि 160 किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन भी जबलपुर है।

5. पिचवरम (Pichavaram)

दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मैनग्रोव जंगल पिचवरम एक ऑफ बीट जंगल है । 50 द्वीपों 4400 नहरों  200 पक्षियों की प्रजातियों के साथ जंगल ने  2004 के सुनामी में एक बफर जोन के रूप में काम किया था ताकि अंतर्देशीय क्षेत्रों की रक्षा की जा सके।

हालांकि यह जंगल अपने भामक जलमार्ग के कारण तस्करों के लिए एक केंद्र है।

पिचवरम में पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट चेन्नई है जो कि 200 किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन चिदंबरम जो 15 किलोमीटर की दुरी पर है।

6. गिर नेशनल पार्क (Gir National Park)

यह ध्यान रखना काफी दिलचस्प है कि अफ्रीका के बाद गिर नेशनल पार्क की एक मात्र स्थान है जहां पर शेर स्वतंत्र रूप से घूमते हैं ।

गिर नेशनल पार्क (Gir National Park)

1965 में एशियाई शेरों के संरक्षण के लिए जनरल स्थापित किया गया था जो काफी सफल रहा, 1913 में शेरों की संख्या 20 थी जो  2015 में 523 हो गई है और चौसिघां हिरन पाए जाने वाला है यह दुनिया का एकमात्र स्थान है । 

गिर नेशनल पार्क जाने के लिए नवंबर से मार्च सर्वोत्तम समय है। 

गिर नेशनल पार्क से सबसे नजदीकी एयरपोर्ट राजकोट है जो कि 160 किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन जूनागढ़ है कि 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 

7. नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व (Nilgiris Biosphere Reserve)

नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व वेस्टर्न घाट और ईस्टर्न घाट का मीटिंग पॉइंट है जो कि एक हॉटस्पॉट रिजर्व है। 

नीलगिरी में फूलों के पौधों की 3500 प्रजातियां हैं और वनस्पतियों और जीवो के लिए एक उत्कृष्ट आवास है। कर्नाटक , केरल और तमिलनाडु में फैले यह विशिष्ट अनुष्ठानों और रीति-रिवाजों के साथ कई जनजातियों का घर है । 

इसका मुख्य भाग प्रोजेक्ट टाइगर और प्रोजेक्ट एलिफेंट के अंतर्गत आता है । 

नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट कोचीन है जो कि 245 किलोमीटर की दूरी पर है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन उदगमंडलम रेलवे स्टेशन है जो कि 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

8. नामदफा नेशनल पार्क (Namdapha National Park)

1985 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को कवर करने वाला देश का चौथा सबसे बड़ा नेशनल पार्क नामदफा एक बायोडायवर्स हॉटस्पॉट है यह मूल रूप से एक वाइल्ड लाइफ सेंचुरी था जो कि 1983 में टाइगर रिजर्व बन गया। 

नामदफा नेशनल पार्क (Namdapha National Park)

नामदफा नेशनल पार्क में स्नो लेपर्ड , गिब्बन,  कैंपड लंगूर , आसामीस मकाक, टाइगर आदि पाए जाते हैं।  

नामदफा घूमने  के लिए सबसे सही समय अक्टूबर से मार्च के बीच में होता है । यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट मोहनबाड़ी है जो कि 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन टिकुनिअ है जो कि 183 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

9. वंडालूर रिजर्व फॉरेस्ट (Vandalur Reserve Forest)

वंडालूर रिजर्व फॉरेस्ट चेन्नई के दक्षिणी क्षेत्र में एक संरक्षित वन क्षेत्र है । यह चेन्नई शहर के केंद्र से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । यदि आप एक शानदार ऑफबीट छुट्टी बिताना चाहते हैं तो यह जगह एकदम सही है।  

वंडालूर रिजर्व फॉरेस्ट (Vandalur Reserve Forest)

वंडालूर पहाड़ियां अपने करिश्माई अपील के साथ साथ आने वाले लोगों को मंत्र मुक्त करते हुए आसपास के शानदार दृश्य पेश करती हैं। वंडालूर रिजर्व फारेस्ट 46 दुर्लभ और लुप्तप्राय जानवरों की प्रजातियों का घर है ।

वंडालूर रिजर्व फॉरेस्ट पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट चेन्नई है जो कि 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन चेन्नई है।

10. बांदीपुर नेशनल पार्क (Bandipur Tiger Reserve And National Park)

बांदीपुर नेशनल पार्क को 1974 में स्थापित किया गया था इसकी समृद्ध वन्यजीवों और सागवान और चंदन के पेड़ों की अधिकता के कारण बांदीपुर को देश का एक बायोस्फीयर रिजर्व घोषित किया गया था।  

बांदीपुर नेशनल पार्क (Bandipur Tiger Reserve And National Park)

नीलगिरी की अपार सुंदरता बांदीपुर नेशनल पार्क को एक शांत और निर्मल वातावरण बनाती है।  बांदीपुर नेशनल पार्क में आप सागवान, गुलाब ,चंदन और इंडियन लॉरेंन पेड़ों को देख सकते हैं । 

विभिन्न लुप्तप्राय प्रजातियां जैसे कि इंडियन एलीफेंट, टाइगर , स्लॉथ बियर ,इंडियन रॉक पाइथन और ढोल बांदीपुर नेशनल पार्क में देखे जा सकते हैं। 

यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट मैसूर है जो कि 85 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन मैसूर है जो कि 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।